Spread the love

सवांददाता- रामअनुज धर द्विवेदी

सोनभद्र। कोरोनावायरस जैसी महामारी ने इस समय हमें फिर से अपने संस्कारों और सत्य सनातन धर्म की याद दिला दी । उक्त बातें श्री सिद्धेश्वर महादेव सेवा संस्थान, महुआव पांडेय के संस्थापक एवं वरिष्ठ अधिवक्ता राम अनुज धर द्विवेदी ने सोमवार को दूरभाष पर हमारे विशेष संवाददाता से देशभर में फैले कोरोनावायरस जैसी महामारी के संबंध में वार्ता करते हुए कही। उन्होंने पारंपरिक सनातन संस्कृति के महत्व पर प्रकाश डालते हुए कहा कि हिन्दू धर्म ज्ञान और परंपरा हमेशा से समृद्ध रही है। आगे बताया कि सनातन धर्म और संस्कृति के योगदान के बिना हिंदुस्तान विश्व गुरु नहीं बन सकता।
श्री द्विवेदी ने यह भी कहा कि
कोरोनावायरस वैश्विक महामारी वर्तमान समय में बहुत ही भीषण रूप लेतीजा रही है । यह स्वस्थ लोगों को अपने चपेट में लेकरअस्वस्थता का स्वरूप प्रदान कर उन्हें मौत की नींद सुला दे रही है। उन्होंने लोगों से अपेक्षा की है कि इस घातक महामारी से बचाव हेतु सबसे पहले अपने घर में रहे और मास्क लगाकर तथा हाथ सेनिटाइजर करते रहे।
श्री द्विवेदी ने बताया कि वर्तमान परिवेश में मानव बहुत डरा सहमा हुआ है वह क्या करे, क्या कैसे रहें कि सुरक्षित रहकर अपना जीवन यापन कर सके यह सब एक बड़ा सवाल देश में पैदा हुआ है । ऐसे में उन्होंने कहां है यदि हम अपने सनातन धर्म और संस्कृति का अनुसरण करें तो बहुत हद तक हम इस महामारी पर अंकुश लगा पाने में सफल को सकेगें
आज हम कहीं न कहीं उस परंपरा से दूर होते जा रहे हैं जिसका कुप्रभाव आम जनमानस पर कहीं न कहीं पड़ता दिखाई दे रहा है।आज हम फिर उस सनातन धर्म संस्कृति व आयुर्वेद व योग को अपनाने पर बाध्य होते दिख रहे हैं क्योंकि वर्तमान समय में योग क्रिया का व आयुर्वेदिक जड़ी बूटियां भी लाभदायक साबित हो रही है। तो आइए हम सब अपने सनातन धर्म संस्कृति को अपनाएं और खुशहाल जीवन यापन करे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You missed