Spread the love

सवांददाता- अभिषेक मिश्रा/ कमलेश पाण्डेय

मिर्जापुर -कोविड- 19 महामारी के दौर में व्यक्तिगत कठिनाइयों और संकट के बावजूद भी उत्तर मध्य रेलवे के अधिकारियों और कर्मचारियों ने भारतीय रेल के सबसे महत्वपूर्ण रेल मार्गों पर रेल परिचालन को सुचारु और निर्बाध बनाए रखा है। यह संभव हो सका सिर्फ इसलिए कि, इन्होंने अपने हौसले को बरकरार रखा। उन्‍होंने न सिर्फ कोरोना को मात दी है, बल्कि अपने कार्यस्थलों, चाहे वो सीधे ट्रेन संचालन हो, अस्पताल या कार्यालय हो, हर मोर्चे पर बिना रुके काम जारी रखा है। उत्तर मध्य रेलवे प्रयागराज के जनसंपर्क अधिकारी अमित मालवीय द्वारा जारी विज्ञप्ति के अनुसार बीते मार्च से मई माह के बीच उत्तर मध्य रेलवे में बड़ी संख्या में अधिकारी और कर्मचारी इस वैश्विक महामारी से संक्रमित हुए। इसमें प्रमुख मुख्य संकेत एवं दूरसंचार इंजीनियर अरुण कुमार, प्रमुख मुख्य इंजीनियर एस के मिश्रा, मुख्य माल यातायात प्रबंधक पी के ओझा, मुख्य यातायात योजना प्रबंधक उप महाप्रबंधक/सामान्य मन्नू दूबे, मुख्य जनसम्पर्क अधिकारी शिवम शर्मा, अपर मंडल रेल प्रबंधक प्रयागराज मंडल अतुल गुप्ता एवं अजीत कुमार सिंह सहित कई वरिष्ठ अधिकारी कोविड-19 के विरुद्ध लड़ाई जीत कर वापस आ चुके हैं । इनमें से कई तो पूर्णत: स्वस्थ होकर कार्यालय पहुंचने लगे हैं। अब वे दूसरे अधिकारियों और मातहतों का मनोबल बढ़ा रहे हैं।
विज्ञप्ति के अनुसार रेलवे के कर्मचारी भी अधिकारियों से पीछे नहीं रहे। उत्तर मध्य रेलवे के 2800 से अधिक कर्मचारी भी संक्रमण का शिकार हो गए थे, जिसमें से लगभग 1500 ठीक होकर कार्यालय पहुंच रहे हैं। स्वस्थ होकर कार्यालय पहुंचे कर्मियों ने अपनी जिम्‍मेदारी भी संभाल ली है। हालांकि, अभी भी लगभग 1300 रेलकर्मी संक्रमण से संघर्षरत हैं। उनमें से कुछ होम आइसोलेट हैं तो कुछ केंद्रीय रेल अस्‍पताल, प्रयागराज या मंडल रेल चिकित्सालय झांसी के कोविड सेंटरों सहित विभिन्न अस्पतालों में इलाज करा रहे हैं। रेलवे प्रशासन होम आइसोलेट कर्मियों के उपचार की भी जिम्‍मेदारी संभाल रहा है। महाप्रबंधक विनय कुमार त्रिपाठी और प्रमुख मुख्‍य चिकित्‍सा निदेशक डॉ आनंद टंडन के निर्देश पर प्रत्‍येक विभाग के रेलकर्मियों का चिकित्‍सकों और संबंधित अधिकारी द्वारा हालचाल लिया जा रहा है। दवाइयां आदि भी उपलब्‍ध कराई जा रही हैं। अपना इलाज करा रहे व करा चुके संक्रमित रेलकर्मियों की छुट्टी भी रेलवे प्रशासन द्वारा अविलंब मेडिकल लीव के नाम पर स्‍वीकार करी जा रही है। महाप्रबंधक विनय कुमार त्रिपाठी के अनुसार प्रत्येक रेल कर्मी और उनके परिवार का स्वास्थ्य हमारी प्राथमिकता है और इसके लिए हम हर संभव सहायता उपलब्ध कराते रहेंगे। उन्होंने रेल कर्मियों को भी निर्देशित किया है कि, वो अपने दायित्व निर्वहन के साथ सभी निर्धारित कोविड प्रोटोकॉल का पालन अवश्य सुनिश्चित करें।

By Tejaswi News

तेजस्वी न्यूज़ सवांदाता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You missed